6 डी सेटअप परिवर्तन : दिव्यांगों को 40 किमी दूर भेजा

बीकानेर. 6 डी में चयनित शिक्षकों का सेटअप परिवर्तन (प्रारंभिक से माध्यमिक शिक्षा) के लिए अध्यापक लेवल द्वितीय के शिक्षकों की रविवार को भी माध्यमिक जिला शिक्षा अधिकारी (मुख्यालय) में काउंसलिंग हुई। प्रारंभिक जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय से रिक्त पदों की सूची नहीं आने से काउंसलिंग निर्धारित समय सुबह नौ बजे से शुरू नहीं हो पाई। इस दौरान शिक्षक भीषण गर्मी में बाहर इंतजार करते रहे। इससे नाराज शिक्षकों व शिक्षक संघों ने प्रदर्शन भी किया। सूची आने के बाद काउंसलिंग दोपहर बाद तीन बजे शुरू हुई। विभाग की ओर से आनन-फानन में जारी हुई सूची आधी-अधूरी थी, जिसमें दिव्यांगों को खास छूट नहीं दी गई। इनका पदस्थापन 40 से 50 किलोमीटर दूर कर दिया गया।

40 शिक्षकों की काउंसलिंग हुई
कार्यालय में लेवल द्वितीय के 40 शिक्षकों की काउंसलिंग हुई। इनमें गणित-विज्ञान के चार, सामाजिक विज्ञान के 11, हिन्दी के 9 शिक्षक उपस्थित हुए। वहीं गणित विज्ञान के 6, सामाजिक विज्ञान के 7, हिन्दी के 9 शिक्षक अनुपस्थित रहे। अध्यापक लेवल द्वितीय में संस्कृत, उर्दू और सामान्य शिक्षक के पद रिक्त नहीं है।
नाराज शिक्षकों ने किया प्रदर्शन
शिक्षा बचाओ संघर्ष समिति के सदस्य गुरचरण सिंह मान ने बताया कि दोपहर एक बजे तक दूसरी सूची नहीं आने से काउंसलिंग शुरू नहीं हो सकी। शाम 5:30 बजे के बाद हिन्दी विषय के अध्यापकों की काउंसलिंग शुरू हुई। प्रदर्शन करने वालों में शिक्षक संघ शेखावत के संजय पुरोहित, राष्ट्रीय के रवि आचार्य, आम्बेडकर के लालचंद हटीला, प्रगतिशील के आनन्द पारीक, गोविन्द भार्गव, भगत सिंह के किशोर पुरोहित, सियाराम के अशोक कुमार रामावत, मनोज कश्यप, रेस्टा के मोहरसिंह, अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ के जयकिशन पारीक आदि शामिल थे। शिक्षक संघों ने बताया कि 6 डी प्रक्रिया को बंद किया जाए या शिक्षकों से विकल्प पत्र भरवाया जाए। 2016 से 6 डी काउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू की गई थी।

आज अंग्रेजी विषय की काउंसलिंग होगी
एडीईओ सुनील बोड़ा ने बताया कि सोमवार को अध्यापक लेवल प्रथम तथा लेवल द्वितीय में अंग्रेजी परामर्श शिविर लगाया जाएगा। इसके लिए रिक्तियों की सूची कार्यालय के नोटिस बोर्ड पर चस्पा कर दी गई है। शिक्षक सोमवार को सुबह 9 बजे रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

पहले शामिल, फिर हटाया
प्रारंभिक जिला शिक्षा अधिकारी की ओर से शनिवार रात को सूची जारी की गई थी। उनमें कई गड़बडि़यां सामने आई। इनमें सेवानिवृत्त और न्यायालय में विचाराधीन प्रकरणों वाले शिक्षकों को भी शामिल किया गया था। सूचना मिलने के बाद विभाग के अधिकारियों ने न्यायालय में विचाराधीन प्रकरणों को हटाकर नई सूची जारी की। इससे काउंसलिंग में शामिल होने वाले शिक्षकों की सूची समय पर जारी नहीं हो पाई।

शाम को जारी की सूची
विभाग की ओर से शनिवार शाम छह बजे काउंसलिंग होने की सूचना जारी की गई, लेकिन शिक्षकों को रविवार सुबह तक सूचना पहुंची नहीं मिली। जैसे-तैसे विभाग के अधिकारियों ने काउंसलिंग की सूचना शिक्षकों को दी, लेकिन कई शिक्षक बाहर होने से काउंसलिंग में शामिल नहीं हो पाए। लेवल प्रथम में शिक्षकों की सूची देर रात जारी की गई थी, रात को ही परिवेदनाओं के लिए बुलाया गया। इनमें कुछ ही शिक्षक परिवेदनाएं दे सके। लेवल प्रथम में चित्रकला, उद्योग विषय के अध्यापकों को 6 डी में शामिल नहीं किया गया है। विभाग के अधिकारियों के अनुसार इन विषयों को 6 डी में शामिल किया जा सकता है।
नहीं दी राहत
पिछले साल ही स्थानांतरण करवाकर शहर में आई थी, लेकिन अब काउंसलिंग में शहर से करीब 40 किलोमीटर दूर भामटसर में पदस्थापन दिया गया है। इससे काफी परेशानी होगी। डीईओ (प्रारंभिक) के कई बार चक्कर भी निकाले है। काउंसलिंग में विकलांग को कोई राहत नहीं दी गई है।
कान्ता रानी, शिक्षिका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *