प्रधानाचार्य की पदोन्नति में तर्कसंगत संख्यात्मक अनुपात लागू किया जाए

प्रधानाचार्य पदाेन्नति में तर्कसंगत संख्यात्मक अनुपात लागू करने के लिए रेसला शाखा चित्तौड़गढ़ द्वारा मुख्यमंत्री के नाम एडीएम प्रशासन मुकेश कलाल को संघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष माणकलाल जारोली के नेतृत्व में पत्र सौंपा।
संभाग के महामंत्री राजकुमार तोलंबिया ने बताया कि हेड मास्टर 3500 के लिए 4000 प्रधानाचार्य के पद जो कि 115% हैं, जबकि 54000 व्याख्याताओं के लिए मात्र के लिए मात्र 8000 पद जो 15% हैं। अतः यह अनुपात अव्यवहारिक एवं अन्यायपूर्ण है। प्रधानाचार्य पदाेन्नति में संख्यात्मक अनुपात को तर्कसंगत व न्याय पूर्ण बनाया जाए। उपाध्यक्ष प्रेम प्रकाश विजयवर्गीय ने बताया कि हेड मास्टर के लिए योग्यता स्नातक हैं जबकि व्याख्याता के लिए योग्यता स्नातकोत्तर हैं। प्रत्येक ग्राम पंचायत पर पीईईओ के गठन के पश्चात प्रधानाध्यापक की भूमिका नहीं के बराबर रह गई है। इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष प्रेम प्रकाश विजयवर्गीय, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी व जिला महामंत्री मंजूर खान पठान, नव कुमार दशोरा,ओम प्रकाश पालीवाल, राकेश कुमार शर्मा, पूर्व उपाध्यक्ष दिनेश जोशी, राधेश्याम रेणवा व गोपाल लाल कुलमी आदि उपस्थित थे।
कपासन | रेसला की उप शाखा ने प्रधानाचार्य पद की पदोन्नति संख्यात्मक अनुपात लागू करने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ब्लाॅक अध्यक्ष सुभाष नंदवाना के नेतृत्व में तहसीलदार काे ज्ञापन दिया। इस दाैरान रेसला जिला महासचिव मंजूर खां पठान, शिव शंकर शर्मा, गोविंद न्याती, अशोक कुमावत, ओम प्रकाश मौजूद रहे।
पहुंना | रेसला संघ के आह्वान पर प्रधानाचार्य पद पर पदोन्नति में संख्यात्मक अनुपात लागू करने के लिए राशमी के उपखंड अधिकारी राशमी दिलीपसिंह राठाैड़ को सीएम के नाम ज्ञापन दिया। रेसला के राशमी ब्लॉक अध्यक्ष प्रकाश चंद्र जाट ने बताया कि प्रधानाचार्य पद पर प्राध्यापकों के उपलब्ध पदों के अनुपात में पदोन्नति करने की मांग की गई।इस दाैरान निर्भयकांत आर्य, शंकरलाल बैरवा, जानकीलाल लक्षकार, हीरालाल खटीक, गौतमदत्त व्यास, नाथूलाल भील आदि माैजूद रहे।